रोहिंग्या मुसलमानों पर मोहन भागवत -मानवता के नाम पर हम अपनी मानवता नही खो सकते

Breaking News Headline News National News

रोहिंग्या मुसलमानों पर मोहन भागवत- मानवता के नाम पर हम अपनी मानवता नहीं खो सकते

नई दिल्ली: आज नागपुर में आरएसएस की स्थापना दिवस को सेलिब्रेट किया जा रहा है. आज विजयदशमी भी है और हर साल की तरह आज भी इस अवसर पर कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ आज अपना शक्ति प्रदर्शन किया. स्वयंसेवको का पथ संचलन सुबह 6.15 बजे रेशमबाग मैदान से शुरु हुआ जो पूरे शहर से होकर गुजरा. आज आरएसएस का स्थापना दिवस है और इस समय आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का संबोधित कर रहे हैं.

मोहन भागवत ने कहा- हमको अपनी नीति बनाने पड़ेगी. आर्थिक नीति ऐसी हो जिससे हर वर्ग का कल्याण हो. आर्थिक मोर्चे पर फैसले का अध्ययन होना चाहिए.
रोहिंग्या मुसलमानों पर बोले मोहन भागवत-आंतकी गतिविधियों की वजह से रोहिंग्या म्यांमार से भगाए गए. मानवता के नाम पर हम अपनी मानवता नहीं खो सकते.
केरल, बंगाल में राजनीतिक हिंसा पर बोले भागवत- वहां की सरकार हिंसा करने वालों के साथ
आतंकियों से सख्ती से निपटने को लेकर भी मोहन भागवन ने सरकार की तारीफ की.
मोहन भागवत ने कहा- जम्मू-कश्मीर के लोगों तक विकास पहुंचना चाहिए. जो हिंदू पाकिस्तान से आए उनकी सुध ली जाए.
डोकलाम विवाद से निपटने के लिए और कश्मीर नीति पर भी मोहन भागवत ने मोदी सरकार की तारीफ की.
RSS प्रमुख ने मोदी सरकार की तारीफ में कहा- 70 साल में पहली बार दुनिया का ध्यान भारत पर गया, आर्थिक विकास की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं.

मोहन भागवत ने कहा- गुलामी में रहने के कारण हम अपना महत्व भूल गए. आज अपनी भाषा कम बोलते हैं. आज राष्ट्र को नेशन बना दिया.
मोहन भागवत ने मुंबई में हुए हादसे पर दुख जताया
संघ के कार्यकर्ताओं के रूट मार्च की कुछ तस्वीरें
#Maharashtra: RSS workers take out Route March on #Dussehra in #Nagpur, Chief Mohan Bhagwat also present. pic.twitter.com/F7WK20bO5g

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनविस और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भी इस कार्यक्रम में मौजूद हैं.
Union Minister Nitin Gadkari, Maharashtra CM Devendra Fadnavis, LK Advani, RSS Chief Mohan Bhagwat present at #vijayadashami Utsav in Nagpur pic.twitter.com/dtupaPr9UW

बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिये विजयादशमी उत्सव समारोह महत्वपूर्ण माना जाता है और इसकी 1925 में स्थापना के बाद से ही स्वयंसेवक इस अवसर पर जुटते हैं. इस साल जालंधर स्थित श्री गुरू रविदास साधु सम्प्रदाय समाज के प्रमुख बाबा निर्मल दास विजयादशमी उत्सव के अवसर पर मुख्य अतिथि है.

प्राप्त तस्वीरे abp news साभार……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *