बीजापुर में एक बार फिर वनमंत्री को दिया कार्यकर्तओं ने झटका 50 कार्यकर्ता जोगी कांग्रेस में शामिल

Breaking News CHHATTISGARH NEWS Headline News News Politics

बीजापुर में एक बार वनमंत्री महेश गागड़ा को उनके कार्यकर्ता ने झटका दिया है,उसूर ब्लाक के 50 भाजपा कार्यकर्ताओं ने छतीसगढ़ जनता कांग्रेस का दामन थाम लिया है

इन कार्यकताओं में कुछ कांग्रेसी भी शामिल है जिन्होंने छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस पर भरोसा जताया है.आज उसूर ब्लाक के आवापल्ली में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया गया था जहाँ बड़ी संख्या में आस पास के ग्रामीण युवा,महिलायें और पुरुष कार्यकर्ता पहुँचे थे,इसी दौरान इलाके 40 भाजपा और 10 कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस में प्रवेश कर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की इस दौरान आवापल्ली में आयोजित जनता कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी के जिला अध्यक्ष एवं विधानसभा प्रत्याशी संकनी चंद्रैया ने सत्तापक्ष भाजपा के साथ-साथ प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर तीखा हमला किया है. संकनी का आरोप है कि बीजापुर में जनता कांग्रेस के बढ़ते जनाधारा से भाजपा-कांग्रेस दोनों ही पार्टियां घबराई हुई है, इसलिए जोगी समर्थकोंको पार्टी से दूर करने दबाव बनाया जा रहा है.उनका आरोप है कि शनिवार को आवापल्ली में प्रस्तावित जनता कांग्रेस के कार्यक्रम की भनक लगने के बाद भाजपा-कांग्रेस सक्रिय हो गई थी.कार्यक्रम से लोगों को दूर रखने तरह-तरह के हथखण्डे अपनाए गए. दूर-दराज के गांवों से ग्रामीण बड़ी संख्या में कार्यक्रम में षामिल होने के मकसद से पहुंच रहे थे, लेकिन उन्हें रास्ते में ही रोक दिया गया। इसी तरह कार्यक्रम के दौरान बिजली गुल कर कार्यक्रम को प्रभावित करने का प्रयास भाजपा ने किया, बावजूद पूरे कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं की अच्छी खासी भीड़ मौजूद थी. संकनी ने आगे कहा कि सत्तापक्ष भाजपा के साथ-साथ केंद्र और राज्य में प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस जनता के साथ अब तक छल करती आई है.नतीजतनजनता का भरोसा भी दोनो पार्टियों से उठ गया है. सत्ता पर रहते भाजपा को आम जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं, ठीक उसी तरह विपक्ष की भूमिका में रहने के बाद कांग्रेस जमीनी मुद्दों को लेकर कभी सक्रिय नहीं रही। बीजापुर जैसे प्रदेश के सबसे संवेदनशील जिले में पहले कांग्रेस और अब भाजपा के विधायक है, जाहिर है कि जनता ने दोनों ही पार्टियों को समान अवसर प्रदान किया, लेकिन जनाधार पाकर भी दोनों ही पार्टियां जनता की उम्मीदों पर खड़ी उतर नहीं पाई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *