पीएनबी घोटाला: मेहुल चोकसी ने खोला राज, इसलिए ली एंटीगुआ की नागरिकता

Breaking News Headline News International National News

पीएनबी घोटाला: मेहुल चोकसी ने खोला राज, इसलिए ली एंटीगुआ की नागरिकता

नई दिल्‍ली। पीएनबी घोटाले के आरोपी और नीरव मोदी के मामा मेहुल चोकसी ने ऐंटीगुआ की नागरिता ले ली है। खुद चोकसी ने इसकी जानकारी दी।
चोकसी ने बताया कि उन्‍होंने व्‍यवसायिक उद्देश्‍य के लिए ऐंटीगुआ की नागरिकता ली थी। इसके पीछे किसी देश में शरण लेना उनका मकसद नहीं था। मेहुल चोकसी के वकील द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है, ‘मैंने इंवेस्‍टमेंट प्रोग्राम के तहत ऐंटीगुआ के नागरिक के रूप में पंजीकृत होने के लिए कानूनी रूप से आवेदन किया था। मेरा आवेदन निश्चित रूप से अनुमोदित था। मेरा आवेदन मेरी व्यावसायिक रुचि बढ़ाने की मेरी इच्छा से प्रेरित था।’
I lawfully applied to be registered as citizen of Antigua and Barbuda under the citizenship by investment program. My application was in due course approved. My application was motivated by my desire to expand my business interest: Mehul Choksi through Counsel David Dorsett

— ANI (@ANI)

इस बीच ऐंटीगुआ सरकार ने संकेत दिए हैं कि अगर भारत की तरफ से उसे हीरा कारोबारी नीरव मोदी के मामा मेहुल चोकसी को वापस भेजने के संबंध में ‘वैध अनुरोध’ प्राप्त होता है तो वह इस पर विचार करेगी। कैबिनेट ब्रीफिंग का हवाला देते हुए ‘द डेली आब्जर्वर’ ने कहा है कि एंटीगुआ एंड बारबुडा की सरकार भारत से वैध अनुरोध मिलने पर कानून के मुताबिक हर संभव मदद का प्रयास करेगी। हालांकि इस संबंध में अभी तक उसे कोई अनुरोध नहीं मिला है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि कैबिनेट में इस बात की भी चर्चा हुई थी कि भारत के साथ उसकी प्रत्यर्पण संधि नहीं है और न ही चोकसी ने एंटीगुआ में कोई अपराध किया है।
उधर मुंबई की स्पेशल पीएमएलए कोर्ट में ईडी ने जो चार्जशीट पेश की है। उसके मुताबिक, “पीएनबी घोटाले का मास्टरमाइंड मेहुल चोकसी ही थी। उसने ही इस फर्जीवाड़े के खेल को अंजाम किया और इस फ्रॉड के जरिए हासिल हुए पैसों को आयात-निर्यात के नाम पर छुपाने का खेल किया।”
मेहुल चोकसी के खिलाफ मुंबई कोर्ट में ईडी द्वारा पेश की गई चार्जशीट में ऐसी जानकारी भी सामने आ रही है कि, “फर्जीवाड़े के लिए फर्जी कंपनियां बनाई गईं थीं, जिसके डायरेक्टर्स और साझीदार केवल डमी के तौर पर काम करते थे। साऱे फैसले मेहुल चौकसी ही लेता था। कई कंपनियां पैसों को इधर-उधर करने के काम में ही आती थी।”
ED charge-sheet against Mehul Choksi in a Mumbai Court also states, “Mehul Choksi is the “mastermind” behind the behemoth scam. He designed the entire scheme of fraud and the movement of the money under the garb of import and export.”

— ANI (@ANI)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *