मनसे प्रमुख राज ठाकरे की उत्तर भारतीय पिटाई मामले में जमानत मंजूर

मुंबई। नाशिक की एक अदालत ने दस साल पुराने एक मामले में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे की जमानत याचिका को मंजूर कर लिया है। उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के साथ मारपीट किए जाने के मामले की सुनवाई करते हुए मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे को इगतपुरी कोर्ट ने जमानत दे दी है। राज ठाकरे के खिलाफ साल 2008 में आपराधिक मामला दर्ज किया गया था। मंगलवार को नाशिक दौरे पर आए राज ठाकरे खुद सुनवाई के दौरान कोर्ट में मौजूद थे। एडवोकेट सयाजी नागरे औऱ एडवोकेट शिरोडकर ने जमानत याचिका दायर की थी।
बता दें कि साल 2008 में उत्तरभारतीयों के साथ मनसे के कार्यकर्ताओं ने गुंडागर्दी करते हुए मारपीट की थी। इस मामले में मनसे प्रमुख के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया गया था। 10 साल तक चली इस सुनवाई में मंगलवार को मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे को इगतपुरी कोर्ट ने जमानत दे दी है। जमानत मिलने के बाद राज ठाकरे ने कहा कि एक ही मामले में उनके खिलाफ 92 केस दाखिल किए गए हैं। इनमें से अकेले 65 केस केवल महाराष्ट्र की अदालतों में दायर किए गए हैं। उन्होंने कहा कि एक ही तरह के केस के लिए अदालतों में कई केस दायर किए जाते हैं। उन्होंने बार असोसिएशन के वकीलों से कहा कि कोर्ट को इस बारे में संज्ञान लेना चाहिए।
मंगलवार को मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे नाशिक जिले के दौरे पर थे। वह 22 दिसंबर तक नाशिक शहर सहित नाशिक के अन्य तहसीलों का भी दौरा करेंगे। मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में भाजपा के खिलाफ जनाधार को देखते हुए राज ठाकरे अपनी पार्टी को मजबूत करने के लिए दौरे कर रहे हैं। जल्द ही नाशिक महानगर पालिका के चुनाव होंगे। इसे देखते हुए मनसे प्रमुख का यह दौरा महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here