नरेंद्र मोदी फिर बनें पीएम तो भारत-पाकिस्तान के बीच शांति वार्ता की बेहतर उम्मीद : इमरान खान

 

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने उम्मीद जताई कि लोकसभा चुनाव में भाजपा के सत्ता में आने से दोनों देशों के बीच शांति वार्ता होने के आसार ज्यादा हैं। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस आगामी चुनाव में जीतती है तो भाजपा से डर कर कश्मीर के मुद्दे को बातचीत के जरिए हल करने से पीछे हट सकती है।

विदेशी पत्रकारों के साथ बातचीत में इमरान खान ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में कश्मीर ही नहीं पूरे भारत में मुसलमान बड़े पैमाने पर अलगाव महसूस कर रहे हैं। मैं कभी सोच भी नहीं सकता जो इस वक्त भारत में हो रहा है। मुस्लिम विचारधारा पर हमले हो रहे हैं। कई साल पहले भारतीय मुस्लिम वहां अपनी स्थिति को लेकर खुश थे। लेकिन आज वे अतिवादी हिंदू राष्ट्रवाद को लेकर चिंतित हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की तरह डर और राष्ट्रवादी भावना के आधार पर चुनाव प्रचार कर रहे हैं। भाजपा ने जम्मू-कश्मीर के लोगों से दशकों पुराने विशेष अधिकारों का प्रस्ताव को खत्म करने का संकल्प लिया है। हालांकि, इमरान खान के अनुसार यह सिर्फ चुनावी स्टंट हो सकता है।

उन्होंने यह भी दावा किया कि पाकिस्तान अपनी सरजमीं पर चल रहे सभी आतंकवादी कैंपो को ध्वस्त करने के लिए प्रतिबद्ध है और कार्रवाई की जा रही है। इमरान खान के कश्मीर के संघर्ष को राजनैतिक बताया। उन्होंने कहा कि इसका सैन्य ताकत से हल नहीं निकाला जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here