क्योंकि भाजपा की हार में ही भारत की जीत है-हिमांशु कुमार

हिमांशु कुमार

भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार प्रज्ञा भारती ने कहा है कि पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे मेरे श्राप से मरे
हेमंत करकरे पकिस्तान से आये हुए आतंकवादियों को रोकने की कोशिश कर रहे थे तभी वे मारे गये
तो पाकिस्तानी आतंकवादी भी चाहते थे कि हमारा मुकाबला करने वाला यह पुलिस अधिकारी मारा जाय
और भारतीय हिंदुत्व की आतंकवादी प्रज्ञा ठाकुर भी चाहती थी कि यह पुलिस अधिकारी मारा जाय 
है ना आश्चर्य की बात ?
कि पाकिस्तानी आतंकवादी और भारतीय आतंकवादी दोनों ही बहादुर और ईमानदार पुलिस अधिकारी की मौत चाहते हैं 
मोदी जी बिल्कुल सच कहते हैं 
कि आतंकवादी सिर्फ आतंकवादी होता है 
हमारा आतंकवादी और तुम्हारा आतंकवादी कुछ नहीं होता 
हांलाकि मोदी जी यह बात पकिस्तान को उपदेश में कह रहे थे
मोदी जी ने खुद ही एक आतंकवादी को अपनी पार्टी का उम्मीदवार बना कर बता दिया है
कि आतंकवाद के खिलाफ मोदी जी की बातें फर्ज़ी जुमले ही थे
प्रज्ञा ठाकुर को इसलिए उम्मीदवार बनाया गया है क्योंकि उसने मुसलमानों को मारा था
मतलब कोई मुसलमान अगर हिन्दुओं को मारे तो वो तो आतंकवादी होता है

लेकिन जब कोई हिन्दू व्यक्ति मुसलमानों को मारता है तो वह देशभक्त होता है 
यही दो मुहां पन भारत के संविधान में नहीं है 
भारत का संविधान हर आतंकवादी हरकत को आतंकवाद कहता है 
चाहे उसे हिन्दू करे या मुसलमान करे 
इसीलिये संघी कभी भी इस संविधान को पसंद नहीं करते 
और संविधान को बदलने की बात करते हैं 

संघ का राष्ट्रभक्ति तय करने का तरीका क्या है ?
गोडसे ने कहा कि मैं देशभक्त और सच्चा हिन्दू हूँ
और गांधी हिन्दुओं का दुश्मन है
तो गोडसे ने पिस्तौल से गांधी को गोली मार दी
संघी चाहते हैं कि अगर किसी संघी को लगे कि कोई नागरिक राष्ट्रभक्त नहीं है
तो वह उसे गोली से उड़ा सकता है
और संघी चाहते हैं कि ऐसे हत्यारे को देश भर के हिन्दू अपना नेता और धर्म रक्षक मानें
इसलिए संघी फिर से एक हत्यारी महिला को अपनी पार्टी का नेता बनाने में लगे हुए हैं
इसे धर्म आधारित राजनीति कहा जाता है
पाकिस्तान यही राजनीति करने के चक्कर में बर्बाद हो गया था
अब पाकिस्तान के युवा इस कट्टरपंथ से बाहर निकल रहे हैं 
आपको याद होगा भारतीय वायु सेना के पायलट अभिनन्दन को वापस भेजने के लिए पाकिस्तान के युवा सड़कों पर उतर आये थे 
लेकिन शर्म की बात यह है कि भारत ने उसी दिन एक पाकिस्तानी की लाश पाकिस्तान को दी 
उस पाकिस्तानी नागरिक को भारत की जेल में पीट-पीट कर मार डाला गया था 
तो पाकिस्तान हमारे बंदे को जिंदा वापस कर रहा है और हम बदले में उनके बंदे को मार कर लाश सौंप रहे हैं 
कौन ज़्यादा सभ्य साबित हुआ ?
धर्म में एक शब्द है विपरीत भक्ति
इसमें अपने शत्रु के बारे में हम इतना अधिक सोचते हैं कि अपने शत्रु जैसे ही बन जाते हैं
भाजपा और संघ ने पाकिस्तान के खिलाफ इतनी नफरत फैलाई कि अपने भक्तों को पाकिस्तान जैसा कट्टर बना लिया
और पाकिस्तान ने खुद को उदार बना लिया

खैर बात इतनी छोटी सी और सीधी भी नहीं है 
भाजपा का पूरा हिंदुत्व और राष्ट्रवाद का उग्र आतंकवाद असल में पूंजीपतियों की सेवा और 
पूंजीवाद के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों को कुचलना है 
इसीलिए भाजपा मुसलमानों के खिलाफ माहौल तो बनाती है लेकिन जेल में सुधा भारद्वाज बिनायक सेन और सोनी सोरी को डालती है 
और मेरे खिलाफ फर्ज़ी मुकदमें बना देती है ताकि हम सब छत्तीसगढ़ में पूंजीपतियों के लिए ज़मीन हड़पने का विरोध ना कर सकें 
भाजपा के असली चेहरे इनकी असली मंशा को पहचान लीजिये 

यह आपके धर्म और देश को प्यार नहीं करते
यह देश और धर्म का नाम लेकर पूंजीपतियों अदानी अम्बानी के लिए काम करते हैं
भाजपा की हार में ही भारत की जीत है
(हिमांशु कुमार गांधीवादी कार्यकर्ता हैं और आजकल हिमाचल प्रदेश में रहते हैं।)
(ये लेखक के निजी विचार हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here