कर्जदार किसानों की बन रही लिस्ट, शपथ ग्रहण के बाद होगी ऐलानिया कार्यवाही

Breaking News CHHATTISGARH NEWS Headline News National News Politics

रायपुर / राजनांदगांव. मतगणना के बाद कांग्रेस को बहुमत मिल चुकी है, मतलब साफ है राज्य में कांग्रेस सरकार बना रही है। जैसा कि कांग्रेस ने सरकार बनने 10 दिनों बाद किसानों का पूरा कर्जा माफ करने का वायदा कर सत्ता में काबिज हो गए हैं, तो वर्तमान में कर्जमाफी को लेकर राज्य के किसानों की आस बढ़ गई है। इधर अपेक्स बैंक प्रबंधन ने जिला सहकारी बैंक राजनांदगांव से जिले के कर्जदार किसानों का लिस्ट व उन पर कितने का कर्ज है। इसकी पूरी जानकारी मांगी है। अनुमान लगाया जा रहा है कि सीएम पद की शपथ लेते ही किसानों का कर्ज माफ हो जाएगा।स्थानीय बैंक प्रबंधन ने सोसाइटी प्रमुखों को लेटर जारी कर इसकी पूरी रिपोर्ट मांगी है।

इस पूरे घटनाक्रम को कांग्रेस की कर्ज माफी की घोषणा से जोड़कर देखा जा रहा है। चूंकि बैंक से लिए कर्ज को तो बैंक को लौटाना ही पड़ेगा या सहकारी बैंक में शासन द्वारा किसानों द्वारा लिए कर्ज की अदायगी कर लिंकिंग से वसूली बंद करने का आदेश जारी होता है, तो वसूली बंद कर दी जाएगी। ऐसे में शायद अपेक्स बैंक के माध्यम से सहकारी बैंक के खाते में कर्ज की राशि जारी हो ऐसा कयास लगाया जा रहा है। हालांकि वर्तमान में शासन स्तर से किसी प्रकार का कोई आदेश-निर्देश बैंक प्रबंधन को नहीं मिला है, लेकिन अपेक्स बैंक से मांगी गई जानकारी का डाटा जुटाया जा रहा है, जिसे जल्द ही अपेक्स बैंक को भेज दिया जाएगा।ज्ञात हो कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार के दौरान सरकार बनने के 10 दिन बाद किसानों के कर्ज माफी की बात कही। इसका विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र में भी जिक्र रहा है। इसके अलावा दो साल का बोनस भी देने का वायदा किया है।

इस दम पर प्रदेश के 90 विधानसभा सीटों में से 68 विस में रिकार्ड मतों से विजयी प्राप्त की है। कांग्रेसी इस घोषणा को पूरा करने की बात भी कह रहे हैं।35 प्रतिशत की हो चुकी है वसूलीज्ञात हो कि राजनांदगांव जिले में करीब 1 लाख 19 हजार किसान कर्जदार हैं। इन्होंने जिला सहकारी बैंक से 404 करोड़ रुपए कर्ज लिया हुआ है। इसके अलावा निजी बैंक से भी खेती-किसानी के नाम पर किसान कर्ज लिए हुए हैं। ज्ञात हो कि शासन ने सहकारी बैंक से 380 करोड़ रुपए कर्ज बांटने का लक्ष्य तय किया था। अब तक हुए खरीदी व लिकिंग वसूली में करीब 35 प्रतिशत कर्ज की वसूली भी की जा चुकी है। हालांकि कांगे्रस पार्टी ने यह भी कहा है कि जिन किसानों ने धान बेच दिया है और लिंकिंग वसूली में उन्होंने कर्ज की अदायगी कर दी है, उन्हें भी कर्ज माफी का लाभ दिया जाएगा। उनके खातों में लिंकिंग वसूली की राशि को वापस (रिफंड) किया जाएगा।उठाव नहीं होने के कारण अब भी जाम की स्थितिज्ञात हो कि जिले के 114 उपार्जन केंद्रों में धान की खरीदी की जा रही है। केंद्रों में धान की बंपर आवक बनी हुई है, लेकिन मार्कफेड व मिलरों द्वारा अब तक उठाव में तेजी नहीं लाई गई है। इस वजह से सोसाइटियों में अब भी जाम की स्थिति बनी हुई है। इससे समिति प्रबंधन व उपज बेचने पहुंचने वाले किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।शासन-प्रशासन स्तर से लिंकिंग वसूली को लेकर कोई दिशा-निर्देश फिलहाल नहीं आया है। फिलहाल अपेक्स बैंक से जिले के कर्जदार किसानों की लिस्ट व उनके द्वारा लिए कर्ज राशि की जानकारी मांगी गई है, जिसे जुटाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *